• This is the home page widget area. You can use this space to add an introductory message to your blog with a Text Widget or add any other widget here.

RIP Air MArshal arjan singh

Dignity incarnate, Marshal of the Air Force Arjan Singh  ❤️  was a soldiers’ soldier. He’s our nation’s eternal gain & we, forever enriched! I last met him at the Delhi Golf Club several weeks ago and we had our customary exchange. 😢

ਜੀਅ ਲੱਗਾ ਰਹਿੰਦੈ

ਕਿਓਂ ਤੁਹਾਂਨੂੰ ਅਸਾਡੇ ਮੁੱਲ ਦਾ ਨਹੀਂ ਜੇ ਅੰਦਾਜਾ ਸਾਡਾ ਜੀਅ ਨਹੀਂ ਘਾਬਰਦਾ। ਕਿ ਅਸਾਨੂੰ ਆਪਣੇ ਮੁੱਲ ਦਾ ਗੁਰਿ ਕਿਤੈ ਖੁਲਾਸਾ ਜੀਅ ਲੱਗਾ ਰਹਿੰਦੈ।

हम – तुम

जिस दिन यह सबित्त हो गया की तुम बस एक फ्रौड ही थे कौम के वर्तमान का कुछ नहीं बिगड़ेगा तुम गर तुम फरेब कर सबित्त भी कर जाओ की हमरी नीयत दरअसल काली थी कौम के वर्तमान का कुछ नहीं बचेगा! तुममें हममें बस इत्ता सा फरक है! हम

दीवे

ए नहीं ताँ ओह दीवे ताँ जलदे ही रहिनगे पर ए नहीं जे पता कि असीं किंने कु बालांगे ते किंने साड्डे ते अर्पित हो बलनगे।

Salutations Prtham Pitā

Today, Bhai Sadhāran, my ancestor, served Guru Nanak, as custodian of Dharamsāl, one last time and as instructed. Salutations Prtham Pitā!

ਮੇਰਾ ਆਲ੍ਹਣਾ

ਮੁਦ੍ਰਾ’ਚ ਸਿਮਟ ਰਹਿਣਾ ਆਂਵਦੈ ਕਰਮੀਂ ਖੇਡ ਹੈ ਬੂਆ ਖੜਕੌਣਾ ਦਸਤਕ ਦੇਣਾ ਔਂਦੈ। ਹਾਕ ਮਾਰਨੀ ਬਾਂਗ ਦੇਣੀ ਪੁਕਾਰਨਾ ਿੲੰਤਜ਼ਾਰਣਾ ਭੀ ਆਂਵਦੈ ਡਾਂਟਣਾ ਭੀ ਹੈ ਅਸਾਂਦਾ ਹੱਕ।  ਪਰ ਿੲਹਣ੍ਹਾਂ ਸਭਨਾ ਦਾ ਫਰਕ ਹੈ ਿਚੱਲੌਣ ‘ਚ ਤੇ ਗਾਲਾਂ ਕੱਡਣ ‘ਚ ਤੇ ਸ਼ੀਸ਼ੇ ਆਲੀਆਂ ਬਾਰੀਆਂ ਤੇ ਵੱਟੇ ਮਾਰਣੋਂ ਿੲੱਟ ਰੋੜੀ ਿਸੱਟਣੋਂ। ਤੁਹਾਡੇ ਸ਼ੀਸ਼ੇ ਮਹਲ ਤੇ ਿੲਸ ਕਰਕੇ ਵੱਟੇ ਨਹੀਂ … Continue reading

बहुत देर करदी जानी

बहुत देर करदी जानी मोमबत्तियाँ बुझाए अरसा बीत चुका धुआँ गुमशुदा जन्मपरव लापता बाराती जा चुके बाजे चुप्प हुए किन्नर गण मूये गीत अब दफ़्न किए।

post-happy-bud-day syndrome

People, I am down with an acute post-happy-bud-day syndrome! 🤕😩😭 है कोई दवा यां कोई दारू  मुझपे मेरी बदकिस्मत भारु बीमारी है ये बहुजन मारू!

भाखाएँ

हुज़ूर हिंदी-हिंदी करत हो यह तो कृपया करें, बतावें कि बाक़ी भाखाएँ हिंद की इन सभन का गला घोंटूँ कैसे कहाँ इन्हें दफ़्न करूँ नज़रंदाज करूँ? मेरे पास गर गिनती नहीं औ न: मिनती तो क्या? भाषाएँ दोस्त सिर्फ़ लोकगणना होने से ना बड़ी होती हैं और न छोटी न अहमियत पाती हैं ना खोतीं … Continue reading

Happy Birthday To Me

रात गुजारी जाग कै दिन गुज़रिया सोये शाम गुजर रही रोये कै साल और गुज़रियो जाय अगला मोड़ अनादि और कै जानू कहाँ ले जाये!